Posts

जल्दी और असरदार तरीके से इम्युनिटी बढाने वाले फ्रूट्स

Image
  जल्दी और असरदार तरीके से इम्युनिटी बढाने वाले फ्रूट्स स्वस्थ रहने के लिए कुछ कॉमन टिप्स की जब बात ऑटो है तो सबसे पहले सुझाव दिए जाते है की : अपने हाथों को अक्सर धोएं और साफ़ रखे ग्रीन टी पीएं खूब पानी पिए रोजाना व्यायाम करें अपने तनाव के स्तर को जितना हो सके कम रखें फलो को अपनी डाइट में शामिल करने की विशेष सलाह दी जाती है| यही कारण है की बचपन से फल खाने पर बहूत जोर दिया जाता है| फल आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में बहूत सक्षम है । इसलिए बीमार होने की चिंता करने के बजाये सुनिचित करे की आप अपनी डाइट में इस विडियो में बताये गए फल ज़रूर शामिल कर रहे है | रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने वाले फल | सेब: ये तो आप जानते ही होंगे की सेब फाइबर और प्राकृतिक शर्करा का अच्छा स्रोत हैं| पर क्या आप ये जानते है की एप्पल के छिलके में क्वेरसेटिन नाम का तत्व पाया जाता है जो हमारी इम्युनिटी को बढ़ावा देने में तो मदत करता है साथ ही ये सूजन को कम करने में भी काफी उपयोगी है | वो कहावत  की रोज एक सेब खाने से डॉक्टर को दूर रखा जा सकता है वास्तव में एकदम सही है| बस

Nutrients value of fruits.

Image
    Nutrients value of banana          Amount per 100grams                                           Calories                         - 89    Total fat                         - 0.3g    Cholesterol                   - 0mg    Sodium                          - 1mg    Potassium                  - 358mg    Total carbohydrate - 23g    Protein                         - 1.1g            Nutrients value of amla        Amount per 100grams       Calories                         - 58    Total fat                         - 0g    Cholesterol                   - 0mg    Sodium                          - 0mg    Potassium                     - 0mg    Total carbohydrate     - 18g    Protein                          - 0g     Nutrients value of dates     Amount per 100grams    Calories                      - 314    Total fat                     - 0g    Cholest

TOP - 3 CARBS FOR SIZE GAIN

Image
             TOP - 3 CARBS FOR SIZE GAIN कार्बोहाईट्रेड प्राथमिक सोर्स हे हमारी बॉडी के लिए। हमारी बॉडी को जो फ्यूल चाहिए वो कार्ब से मिलते है और आप जब मसल का साइज गेन करना चाहते है तब आपकी डाइट मे कार्ब अधिक होना चाहिए अर्थात कार्ब आपकी एवरजे इंटेक से ज्यादा जो आपकी मैक्रो के परसेंट पर निर्भर करता है की आपको कितनी कार्ब एक दिन के लिए चाहिए उससे अधिक कार्ब होना चाहिए तभी आप मसल का साइज गेन कर सकते है।   तो कार्बोहाईट्रेड के ये तीन सोर्स आपकी डाइट मे होना चाहिए (1) - oats (ओट्स) -                      ओट्स आपकी डाइट मे जब आप गेन कर रहे है ओट्स आपकी डाइट मे होना जरूरी है इसके अंदर 0% सुगर, 0% कॉलेस्ट्रॉल, 0% सोडिएम हैं इसका मतबल इसे कोई भी जिसे कॉलेस्ट्रॉल की प्रॉब्लम हो या ब्लड प्रेसर की प्रॉब्लम हो वो सभी इसे ले सकते हैं।  (2) - sweet patato (स्वीट पोटेटो) -                                             स्वीट पोटेटो कार्बोहाईट्रेड का एक बहुत अच्छा सोर्स है। इसे पोस्ट वर्कआउट के 1 घंटे बाद खाये।  (3) - brown rice -                                                                       

WHAT IS METABOLISM( मेटाबोलिज्म क्या है?)

  WHAT IS METABOLISM( मेटाबोलिज्म क्या है?)      मेटाबोलिज्म जीवित जीवो मे पाये जाने वाले सभी केमिकल रिएक्शन का योग हैं। जिसमे पाचन और विभिन्न सेल्स के बीच पदार्थो का ट्रांसपोर्टेशन शामिल हैं। मेटाबोलिज्म खाए गए भोजन को ऊर्जा मे बदलता है जो हमारे सोचने, चलने और बढने के लिए बेहद जरूरी हैं।  रिसर्च मे पता लगा कि मेटाबोलिज्म उम्र के साथ स्लो हो जाता हैं पर अगर आप इस बात को इस प्रकार ले रहे है कि आप इससे अनफिट होंगे तो शायद आप गलत है।  रिसर्च मे यह पता लगा है कि आपके मेटाबोलिज्म का कंट्रोल ज्यदातर आप हि के हाथ मे है और आप इसका कंट्रोल कभी भी ले सकते है जब रिसर्च करी गई तो उसमे देखा गया कि आपका मेटाबोलिज्म उम्र के साथ स्लो तो हो रहा है लेकिन ज्यदातर जो लोग ओवरवेट हो रहे है वो इस लिए हो रहे क्योकि उम्र के साथ उनकी फिजिकल ऐक्टिविटी कम होती जा रही है और उनका कैलोरी ईंटेक उतनी ही मात्रा मे चल रहा है। To वह समय के साथ वेट गेन करते चले जाते है पर अगर आप फिजिकल एक्टिव है प्रॉपर वर्कआउट करते है अपने डाइट को सही से कंट्रोल करते है तो आप को आपके मेटाबोलिज्म के बारे मे सोचने कि जरूरत नही है।  इसकी बहू

TOP - 3 FRUITS FOR FAT LOSS

Image
              TOP - 3 FRUITS FOR FAT LOSS जब हम फेट लॉस कि बात करते हैं तो कुल कैलोरी इनटेक मे कमी करनी चाहिए। जिससे फेट लॉस होगा ही पर वह भी मैक्रोस पर निर्भर करता हैं। कि कैलोरी किस फूड से कितनी आ रही हैं। फेट लॉस के लिए 3 fruis - (1) ORANGE -                                        फेट लॉस के दोरान यह आपकी डाइट मे होना चाहिए। ओरेंज मे कैलोरी कम होती है। इसमे विटामिन-c बहुत होता है। फेट लॉस के दोरान विटामिन-c कि बहुत जरूरत होती है। और विटामिन-c कि डेली आवश्यकता 80mg के लग भग होती है। 1- ओरेंज मे लग भग 70 - 80mg विटामिन-c होता है। विटामिन-c इम्यून सिस्टम को भी बूस्ट करता है। (2) APPLE -                                     एप्पल भी फेट लॉस के दोरान बहुत जरूरी होता है एप्पल मे  बहुत मात्रा मे फाइबर होता है। 100g. एप्पल मे 50-52g. कैलोरी होती है। एप्पल मे आयन और मिनरल भी होते है। आयन ब्लड सर्कुलेशन ठीक रखने मे मदद करता है। आयन ब्लड और सुगर लेवल भी बैलंस करता है। एप्पल मे एंटीआक्सीडेंट होते है जो इम्यून सिस्टम को प्रोटेक्ट करते है। और एप्पल मे विटामिन- B और c भ

Weight loss vs fat loss? (वेट लॉस या फेट लॉस) 

Image
Weight loss vs fat loss? (वेट लॉस या फेट लॉस)  वेट लॉस और फेट लॉस में से फेट लॉस, हेल्दी होता हैं। वेट लॉस या फेट लॉस करने के लिए बोहत से लोग खाना नही खाते या कम खाते है यह गलत हैं। इससे वेट/फेट लॉस नही होता हैं बल्कि वजन और बढने लगता हैं। इसके लिए हमे प्रॉपर डाइट लेना चाहिए। साथ हि वर्कआउट भी करना चाहिए।                वेट लॉस और फेट लॉस मे फेट लॉस, हेल्दी होता हैं।   वेट लॉस  और फेट लॉस मे से वेट लॉस तब करना चाहिए जब हमारा वजन बोहत अधिक हो जिससे हमारे शरीर मे पानी, फेट और मसल, लॉस होता हैँ। वेट लॉस करने मे हमारे शरीर से अधिक मात्रा मे पानी और मसल कम होता हैं। जिससे शरीर मे फेट कि मात्रा मे ज्यादा अंतर नही होता हैं। जिससे हम सिर्फ पतले होते है फिट नहीं। वेट लॉस करने के लिए लोग बोहत से तरीके अपनाते हैं।    जैसे - अधिक मात्रा में कार्डियो करना, या डाइट मे कार्ब या फेट की मात्रा बोहत कम कर देना, बॉडी को डिहाईड्रेड करना इन सब से हम पतले होते हैं फिट नहीं। फेट लॉस -                 अधिक कार्ब लेने से फेट जमा होता हैं। जब हम कार्ब लेते हैं तब हमरी बॉडी उसे ग्लूकोज मे ब्रेक

व्यायाम के लाभ ( BENIFITS OF FITNESS)

      व्यायाम के लाभ ( BENIFITS OF FITNESS)  1 - नियमित व्यायाम दिल कि बीमारी को रोकने में मदद करता हैं। 2 - नियमित व्यायाम करने से मोटापा कम होता हैं। और TYPE 2 DIABETES नियंत्रण मे रहता हैं। 3 - नियमित व्यायाम करने से मांसपेशियों की ताकत, कार्य छमता, लचिलपन मे वृद्धि होती हैं। 4 - नियमित व्यायाम पीठ दर्द, कमर दर्द को रोक सकता हैं। 5 - OSTEOPOROSIS, बढ़ती उम्र के साथ - साथ शरीर की हड्डियों का कलसीयम कम हो जाता हैं जिससे हड्डिया कमजोर होती हैं रेगुलर वेट ट्रेनिंग से हड्डियां मजबुत होती हैं 6 - नियमित व्यायाम करने से cortisol नामक स्ट्रेस हार्मोन मुक्त होता हैँ जिससे हमारी चिंता, तनाव, थकान सब दूर हो जाते हैं।            इसलिये हफ्ते में 5 - 7 दिन 30 - 60 मिनट अलग - अलग प्रकार के व्यायाम ( workout) करना जरूरी हैँ।